MK Stalin का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पलटवार: 'भ्रष्टाचार विश्वविद्यालय के चांसलरMK Stalin का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पलटवार: 'भ्रष्टाचार विश्वविद्यालय के चांसलर

MK Stalin का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पलटवार: ‘भ्रष्टाचार विश्वविद्यालय के चांसलर-

चेन्नई:

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री MK Stalin ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तीखा हमला किया, उन्हें “भ्रष्टाचार विश्वविद्यालय के चांसलर” बनने के लिए उपयुक्त घोषित किया। इस कठोर जवाब के बाद ही पीएम मोदी ने MK Stali  की पार्टी डीएमके को भ्रष्ट घोषित किया।

MK Stalin का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पलटवार: 'भ्रष्टाचार विश्वविद्यालय के चांसलर
MK Stalin का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पलटवार: ‘भ्रष्टाचार विश्वविद्यालय के चांसलर

 

आरोप और प्रतिक्रियाएं

स्टालिन ने चुनावी बोंड, पीएम केयर्स फंड से लेकर भाजपा के ‘धोबी पचाड़’ तक कई मुद्दों पर ध्यान दिया, और भाजपा में भ्रष्टाचार का आरोप लगाया। MK Stalin ने कहा कि यदि किसी भ्रष्टाचार के लिए विश्वविद्यालय स्थापित किया जाना हो, तो मोदी इसके चांसलर के लायक हैं।

Read in English 

पीएम मोदी के आरोप

बुधवार को, तमिलनाडु के वेल्लोर में एक रैली में, पीएम मोदी ने डीएमके को भ्रष्टाचार का आरोप लगाया और MK Stalin के परिवार पर हंसी उड़ाई। पीएम मोदी ने कहा कि डीएमके को भ्रष्टाचार के सबसे पहले कॉपीराइट है और पूरे परिवार तमिलनाडु को लुट रहा है।

आरोपों का जवाब

प्रधानमंत्री मोदी के आरोप का जवाब देते हुए, MK Stalin ने उन्हें ‘व्हाट्सएप विश्वविद्यालय’ से पढ़ने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि मोदी को कृपया व्हाट्सएप विश्वविद्यालय में पढ़ाई न करें।

MK Stalin का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पलटवार: 'भ्रष्टाचार विश्वविद्यालय के चांसलर
MK Stalin का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पलटवार: ‘भ्रष्टाचार विश्वविद्यालय के चांसलर

तानाशाही के खिलाफ चेतावनी – MK Stalin ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तीखा हमला किया-

स्टालिन ने चेतावनी दी कि यदि भाजपा पुनः केंद्र में सत्ता में लौटती है, तो यह एक तानाशाही सरकार की स्थापना का संकेत होगा, जो संसद में चर्चाओं को दबाएगी और चुनावों

को बाधित करेगी।

चलिए MK Stalin के बारे मे जानते है कौन है वो?:

भाषा और सांस्कृतिक अंतर

प्रधानमंत्री मोदी के हाल ही में चेन्नई में रोडशो के बारे में MK Stalin ने इसे एक फ्लिप के रूप में कृतज्ञता व्यक्त की और पीएम मोदी के वेल्लोर में हिंदी में बोलने का उपयोग करने पर प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि वेल्लोर की मीटिंग में प्रधानमंत्री मोदी ने हिंदी में बोला और दर्शक तालियों से प्रशंसा की। कई लोगों ने इसे उत्तर भारत से लोगों को मीटिंग के लिए लाया गया है के संदेह व्यक्त किए।

मुथुवेल करुनानिधि स्टालिन, जिन्हें MK Stalin के रूप में भी जाना जाता है, एक प्रमुख भारतीय राजनेता हैं जो 2021 से तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के रूप में कार्यरत हैं। 1 मार्च 1953 को मद्रास (अब चेन्नई) में जन्मे, स्टालिन पूर्व मुख्यमंत्री एम. करुनानिधि और दयालु अम्मल के बेटे हैं। उनका राजनीतिक सफर एक युवा उम्र में शुरू हुआ जब उन्होंने ड्राविड मुन्नेत्र काज़ाग़म (डीएमके) के कार्यक्रमों में सक्रिय भाग लिया, अंत में पार्टी में एक महत्वपूर्ण व्यक्ति बन गए।

शुरुआती जीवन और परिवार

MK Stalin का परिवार उनके पिताजी की राजनीतिक विरासत से गहरा प्रभावित था। उन्होंने अपनी शिक्षा प्रेसिडेंसी कॉलेज, चेन्नई से पूरी की, और बाद में 1975 में दुर्गा से विवाह किया। उनके दो बच्चे हैं – उधयनिधि स्टालिन, जो एक अभिनेता और राजनेता हैं, और सेंथामराई सबरीसन, जो एक उद्यमी और शिक्षा विशेषज्ञ हैं।

राजनीतिक करियर

MK Stalin का प्रवेश राजनीति में करुनानिधि परिवार के लंबे समय तक शामिल होने की बगावत था। उन्होंने डीएमके में विभिन्न भूमिकाओं का समर्थन किया, युवा पक्ष का नेतृत्व किया और उप मुख्य सचिव के रूप में सेवा की। स्टालिन का पार्टी के विचारधारा और उनका ग्राउंड लेवल पर काम उन्हें पार्टी के सदस्यों और जनता के बीच लोकप्रियता प्राप्त किया।

MK Stalin का प्रवेश राजनीति में करुनानिधि परिवार के लंबे समय तक शामिल होने की बगावत था।
MK Stalin का प्रवेश राजनीति में करुनानिधि परिवार के लंबे समय तक शामिल होने की बगावत था।

डीएमके युवा विंग

1968 में, स्टालिन ने अपने दोस्तों के साथ एक नाई की दुकान में डीएमके युवा विंग की शुरुआत की। 1983 में, उन्होंने गोपालपुरम युवा विंग को राज्य स्तर पर एक प्रभावी संगठन बनाया और मुख्य रूप से सचिव के रूप में प्रेरित किया, जिस पद पर उन्होंने चार दशक से अधिक समय तक धारावाहिक रूप से काम किया। युवा विंग के प्रारंभिक दिनों में, उन्होंने तमिलनाडु के अन्य युवा सदस्यों के साथ राजनीतिक गतिविधियों में ग्रासरूट स्तर पर सक्रिय रूप से राजनीतिक अंशों में परांगत होने के लिए तमिलनाडु के अन्य युवा सदस्यों का मार्गदर्शन किया।

निर्वाचनी प्रदर्शन

MK Stalin की डीएमके उम्मीदवार के रूप में विधानसभा चुनाव में परिणाम निर्वाचन निर्वाचन क्षेत्र परिणाम वोट % बहुमत % 1984 तमिलनाडु विधानसभा चुनाव थाउजेंड लाइट्स हार 47.94 2.50 1989

तमिलनाडु विधानसभा चुनाव थाउजेंड लाइट्स जीत 50.59 20.54 1991

तमिलनाडु विधानसभा चुनाव थाउजेंड लाइट्स हार 39.19 17.31 1996

तमिलनाडु विधानसभा चुनाव थाउजेंड लाइट्स जीत 69.72 46.76 2001

तमिलनाडु विधानसभा चुनाव थाउजेंड लाइट्स जीत 51.41 7.62 2006

तमिलनाडु विधानसभा चुनाव थाउजेंड लाइट्स जीत 46.0 2.28 2011

तमिलनाडु विधानसभा चुनाव कोलाथुर जीत 47.7 1.92 2016

तमिलनाडु विधानसभा चुनाव कोलाथुर जीत 54.3 22.42 2021

तमिलनाडु विधानसभा चुनाव कोलाथुर जीत 60.86 40.59

MK Stalin ने चेन्नई की थाउजेंड लाइट्स विधानसभा क्षेत्र से विधानसभा चुनाव में असफलता का सामना किया। 1989 में स्टालिन फिर से थाउजेंड लाइट्स विधानसभा क्षेत्र से विधानसभा चुनाव लड़े और जीत गए। डीएमके सरकार ने अपने पूर्ण पांच वर्षीय कार्यकाल को पूरा करने से पहले विस्मित किया। 1991 में, उन्होंने एक बार फिर से उसी विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ा, लेकिन ए.आई.एडीएमके के के. ए. कृष्णस्वामी को हरा दिया। फिर से 1996 में, स्टालिन ने हज़ारों लाइट्स विधानसभा क्षेत्र से विधायक के रूप में चुनाव जीता।

चुनावी यात्रा

MK Stalin की चुनावी यात्रा उनकी दृढ़ता और तमिलनाडु के लोगों के बीच व्यापक प्रसिद्धि को दर्शाती है। प्रारंभिक हार के बावजूद, उन्होंने अटलता और अंत में कई चुनाव जीते, 2021 में मुख्यमंत्री पद को जीत के रूप में दावेदार माना गया। उनके हारे गए हज़ार लाइट्स और कोलाथुर निर्वाचन क्षेत्रों में जीत उनकी सहनशीलता और मजबूत राजनीतिक बुद्धिमत्ता को दर्शाती है।

विरासत और प्रभाव

MK Stalin का नेतृत्व एक उदारता और प्रगतिशील आदर्शों का मिश्रण के रूप में चिह्नित है। उन्होंने सामाजिक न्याय, आर्थिक विकास और सांस्कृतिक संरक्षण जैसे मुद्दों का समर्थन किया है, जिसके कारण उन्हें उनके समर्थकों और विरोधियों दोनों बनाया गया है। मुख्यमंत्री के रूप में, उन्हें राज्य की जटिल समस्याओं का सामना करने का दु:खद काम है, साथ ही लोकतंत्र और समावेशी शासन के सिद्धांतों को भी बनाए रखना है।

Ye news bhi jane Gangu Ramsay Dies  गंगू रामसे का निधन:

निष्कर्ष

समापन में, एमके स्टालिन का राजनीतिक सफर उनकी दृढ़ता, समर्पण और तमिलनाडु के लोगों की सेवा के प्रति उनकी अड़म्य समर्थता का प्रतीक है। जब वे राज्य की ओर अग्रसर होते हैं, तो उनका नेतृत्व करुनानिधि परिवार की विरासत और उनका राजनीतिक आदर्श को साकार करता है।

One thought on “MK Stalin का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर पलटवार: ‘भ्रष्टाचार विश्वविद्यालय के चांसलर”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *